वृंदा करात के द्वारा एनआईए को नेशनल क्रिमिनल एजेंसी बताना पाकिस्तान की भाषा बोलने के समान – प्रतुल शाहदेव

कल गुरुवार 15 जुलाई 2021 को वाम दलों ने एक्टिविस्ट फादर स्टेन स्वामी के मृत्यु को लेकर रांची में राजभवन मार्च किया। इसमें माकपा की पोलित ब्यूरो सदस्य सह झारखंड प्रभारी वृंदा करात भी शामिल हुई, उन्होंने इस दौरान फादर स्टेन स्वामी के मृत्यु पर सवाल उठाए और सरकार से उनकी मौत की न्यायिक जांच की मांग की। उन्होंने यह भी कहा कि यह भाजपा प्रायोजित साजिश है और जांच एजेंसी एनआईए को नेशनल क्रिमिनल एजेंसी कहा।

उनके इस बयान पर झारखंड भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने कड़ी आपत्ति जताई है, और कहा कि एनआईए ,आईबी और तमाम सुरक्षा एजेंसियां अपनी जान पर खेलकर और कुर्बानी देकर देश की एकता और संप्रभुता को बनाए रखने के लिए लगी रहती है, और उनके प्रति ऐसा बयान देना पाकिस्तान की भाषा बोलने के समान है। एनआईए की वजह से देश के खिलाफ बड़े- बड़े अंतरराष्ट्रीय साजिशों और टेरर फंडिंग के मामलों का खुलासा हुआ है। लेकिन ऐसा लगता है श्रीमती करात को यह पसंद नहीं है। प्रदेश प्रवक्ता ने आगे कहा की राजनीति अपनी जगह है लेकिन राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसियों का मनोबल तोड़ने का किसी को हक नहीं है। माकपा को तुरंत श्रीमती वृंदा करात के इस बयान के लिए देश से माफी मांगनी चाहिए।

प्रतुल शाहदेव ने वृंदा करात के उस बयान का भी कड़ा विरोध किया है जिसमें उन्होंने स्टेन स्वामी की मौत को भाजपा प्रायोजित साजिश बताया था। स्वामी पर देशद्रोह के गंभीर आरोप लगे थे और उनके पक्ष में इस तरह का वक्तव्य देना अशोभनीय है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

आप पसंद करेंगे