ईचागढ़ के आजसू नेता हुए गिरफ्तार, पत्नी ने अब संभाला मोर्चा, कहा: यह सब विरोधियों की साजिश

2019 झारखंड विधानसभा चुनाव में ईचागढ़ विधानसभा क्षेत्र से प्रत्याशी रहे आजसू पार्टी के केंद्रीय सचिव हरेलाल महतो को सरायकेला खरसावां जिला पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। गुप्त सूचना पर पुलिस ने उन्हें पश्चिम बंगाल के दीघा से गिरफ्तार किया। जेल भेजने से पूर्व सरायकेला सदर अस्पताल में हरेलाल महतो की कोरोना जांच की गई, जिसमें नेगेटिव रिपोर्ट आने पर उन्हें सरायकेला कोर्ट में पेश किया गया। बताया जाता है कि कोर्ट की कागजी कार्रवाई में देर होने के कारण सीजेएम जज के आवास पर पेशी की गई, जिसके बाद सरायकेला जेल भेज दिया गया। विदित हो कि गत 23 अप्रैल को सरायकेला खरसावां जिला के नीमडीह थाना अंतर्गत बामनी गांव में चड़क पूजा (भोक्ता पूजा) का आयोजन किया गया था। जहां भीड़ जमा होने की सूचना पर नीमडीह के बीडीओ व पुलिस बल पहुंची थी। बताया जाता है कि पुलिस बल द्वारा चड़क पूजा को बंद कराने के लिए बल प्रयोग करते हुए ग्रामीणों पर लाठीचार्ज कर दी थी, जिससे आक्रोशित ग्रामीणों ने बीडीओ व पुलिस टीम पर पथराव कर दिया था। इस घटना को लेकर बीडीओ द्वारा नीमडीह थाना में मामला दर्ज कराया गया था। मामले में बीडीओ ने आजसू नेता हरेलाल महतो समेत 41 नामजद अभियुक्त बनाया था।दर्ज एफआईआर में लॉकडाउन के दौरान फंडिंग कर भीड़ जमा करने तथा पुलिस पर हमला करने के लिए उकसाने का हरेलाल महतो पर आरोप लगाया गया है। वहीं, हरेलाल महतो ने कहा था कि इस घटना से उनका कोई लेना देना ही नहीं है। उन्होंने इसे सत्ता पक्ष का षड्यंत्र बताया था। उन्होंने बयान जारी कर बताया था कि उन्हें विधायक सविता महतो के इशारे पर झूठे मुकदमे में फंसाया गया है। नीमडीह थाना प्रभारी अली अकबर खान ने बताया कि घटना के बाद पुलिस प्रशासन पर पथराव करने के मामले में गिरफ्तार गए बुलबुल सिंह के बयान के आधार पर हरेलाल महतो के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। बता दें कि 2019 विधानसभा चुनाव में हरेलाल महतो द्वितीय स्थान पर रहे लेकिन सक्रिय राजनीति में रहने के कारण वह हमेशा सुर्खियों में बने रहते हैं।

विरोधियों की साजिश नाकाम होगी, जनता निराश न हों : रीना महतो

आजसू नेता हरेलाल महतो को जेल भेजे जाने के बाद हरेलाल महतो की धर्मपत्नी रीना महतो ने मोर्चा संभाल लिया और सत्ता पक्ष पर प्रहार किया। रीना महतो ने बिना किसी विरोधी का नाम लेते हुए कहा है कि हरेलाल महतो की लोकप्रियता और जनसेवा के कार्यों से सत्ता पक्ष घबरा गई है। सत्ता पक्ष द्वारा साजिश कर झूठा मुकदमा में फंसाया गया। उन्होंने बताया कि नीमडीह के बामनी में जिस दिन घटना घटी थी, उस पूरे दिन हरेलाल महतो ईचागढ़ प्रखंड क्षेत्र में थे, इस बात के हजारों गवाह है। इस तरह के झूठे मुकदमे से हम डरने वाले नहीं है। इस झूठे मुकदमे का पर्दाफाश होगा, विरोधियों की हर साजिश नाकाम होगी। ईचागढ़ की जनता भी समझ रहीं हैं कि आज जब एक स्थानीय भूमिपुत्र ने अपने जनता की सेवा को आगे आया है तो बाहरी विरोधियों ने किस तरह का षड्यंत्र रचा है। रीना महतो ने कहा है कि वह ईचागढ़ विधानसभा की जनता के साथ खड़ी हैं, वह भी ईचागढ़ की बेटी है। उन्होंने कहा कि कार्यकर्ता और समर्थक निराश न हों, हम लड़ेंगे और जीतेंगे। सत्ता पक्ष के झूठे मुकदमे के खिलाफ हम सभी मिलकर जोरदार आंदोलन करेंगे। जिस तरह से हरेलाल महतो जनता के बीच रहकर जनता के सुख दुख में खड़े हैं, उन जनसेवा के कार्यों को मैं आगे बढ़ाने का काम करूंगी।

न्यूज साभार: विश्वरूप पांडा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

आप पसंद करेंगे