प्लास्टिक की टोंटी के जरिए आत्महत्या की थ्योरी नही उतर रही किसी के गले, पत्रकार श्याम मीरा सिंह ने साफ-साफ कहा: यूपी पुलिस है हत्यारी

✍️ Anit Kumar Singh

यूपी के कासगंज में पूछताछ के लिए 21 वर्षीय अल्ताफ नामक युवा को पुलिस थाने लाई और फिर हवालात में उसकी मौत हो जाती है। बताया जा रहा है कि एक लड़की भगाने के आरोप में युवक को पूछताछ के लिए एक दिन पहले पुलिस ने उठाया था, पुलिस ने इसे आत्महत्या करार दिया है। पुलिस ने बताया की बाथरूम में जैकेट की डोरी के जरिए टोंटी से लटककर उसने आत्महत्या कर ली। लेकिन हर कोई इसे मानने को तैयार नहीं। आप फोटो में देख सकते हैं कि ये वो टोंटी है जिससे लटककर अल्ताफ ने ‘आत्महत्या’ की, इसकी ऊंचाई मात्र 2 फीट है।

युवा पत्रकार श्याम मीरा सिंह ने इस आत्महत्या को लेकर सोशल मीडिया पर कई सवाल खड़े किए और ट्विटर पर हैश टैग भी चलाया। उनका मानना है कि प्लास्टिक की टोंटी से लटककर कोई 5 से 6 फूट का युवक कैसे मर सकता है? उन्होंने नल की ऊंचाई पर भी सवाल खड़े किए और यूपी पुलिस को हत्यारा बताया है। श्याम ने हवालात का वीडियो भी शेयर किया है और दिखाया है कि किस तरह टोंटी नीचे है और कमजोर है। उससे लटककर किसी का मरना कठिन है।

आज अल्ताफ के बाथरूम की पाइप से लटकती हुई ये फोटो सामने आई है, जिसमें दिख रहा है कि पाइप टूटी हुई है. अब सवाल ये है कि एक दिन में ही पुलिस को टोंटी और पाइप ठीक करने की क्या जल्दी थी? क्या ये क्राइम सीन से छेड़छाड़ नहीं है? ऐसे बहुत सारे सवाल है जो उठने लाजिमी है क्योंकि पुलिस कर्मियों और अधिकारियो ने कुछ ज्यादा ही जल्दी दिखाई है और आत्महत्या करार दे दिया है।
मामले में एसपी रोहन प्रमोद बोत्रे ने इंस्पेक्टर सहित पांच पुलिस कर्मियो को सस्पेंड कर दिया है, पर मृतक के परिवार वालों ने पुलिस पर हत्या का आरोप लगाया है।

अब यह मामला काफी सुर्खियां बटोर चुका है और राष्ट्रीय स्तर पर लोग इसकी चर्चा हो रही। भारतीय युवा कांग्रेस के अध्यक्ष श्रीनिवास बी वी ने भी अल्ताफ के मौत पर प्रश्न चिन्ह खड़े किए है, उन्होंने एक विडियो ट्वीट कर कहा कि

अब देखना है कि उत्तर प्रदेश सरकार और पुलिस इस मामले में जांच गठित करती है या मुआवजा देकर ही मामले को रफा दफा करने की कोशिश होती है। #Kasganj #UttarPradesh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

आप पसंद करेंगे